सोमवार, 1 जनवरी 2007

सीसे की भीत

नये वर्ष का मधुर संगीत
जैसे कर्णप्रिय गीत
जैसे मन का मीत
वृद्धों का अतीत
तेरी-मेरी प्रीत
जैसे सत्य की जीत
जैसे प्रेम की रीत
जैसे शिशिर की शीत

नाचो-गाओ, धूम मचाओ
कहीं ये पल जाये ना बीत।

आपस में खुशियाँ बाँटो
राहों के सारे काँटे छाँटो
कहीं मीत को काँटा लगा
ह्रदय में कहीं आह जगा
ह्रदय मेरा द्रवित होगा
कुछ ऐसा अजीब घटित होगा
काँच की तरह विघटित होगा

क्योंकि दिल है मेरा
सीसे की भीत, सीसे की भीत।।

लेखन-तिथि- २ जनवरी २००३ तद्‌नुसार विक्रम संवत् २०५९ पौष मास की अमावस।

2 टिप्‍पणियां:

भुवनेश शर्मा ने कहा…

आपको भी नववर्ष की बधाईयाँ
कविता वाकई सुंदर है

बेनामी ने कहा…

Shailesh jee,
tukaant aur ek saral see jaa rahee kavitaa ko bh kaise klisht banaanaa hai arthon ke parten jodnee hai, aap mujhe sikhaa dijiye plz.
nav varsh ke geet me jaise jaise kar list banaane kee ek aur kavitaa samajh khaarij karne hee vaalaa thaa ki, aa gaye aap, lekar apnaa,
"kuch aisaa ghatik hoga, kanch kee tarah vighatik hoga, kyunki dil hai mera seese kee bheet.." yahan tak bhee ek dam chaalu raha sab, par ek hee pankti kee punaravrattee ne to bhai pure number bator liye..."seese kee bheet".
pata nahee ye apki shailee bhi ho sakti hai par alochanaa karunga apki kavitaa ke shuruat me ekdam chalu type honee kee...aur badhaeyaan antim 4 panktiyon aur jaduyi punravratti ke liye.