मंगलवार, 19 दिसंबर 2006

अंतहीन अभीष्ट

लिखते-लिखते
पहुँच जाते हैं शब्द
अभीष्ट तक।
अंतहीन अभीष्ट......

बहुत अज़ीब बात है,
कुछ मायनों में
बेदुरूस्त शै भी
क़रीने से ज़्यादा
खूबसूरत और लाज़बाब होती है।
हर बार एक ही
आयोजन व प्रयोजन।
थकने की सोचना भी
वफ़ाई की दीवार है।

रोज़ दराज़ों से निकाल-निकाल कर
ख़्वाब,
सजाता रहता हूँ क़ाग़ज़ी फ़र्श पे।
रंगीन सितारों से जलाता रहता हूँ
आशा और प्रतिआशा का दीया।
सुबह का सूरज
और फिर
रात का चाँद।
हर बार यूँही आते भी हैं
और जाते भी।

दराज़ों का खुलना
और बंद होना भी है
जैसे
अंतहीन अभीष्ट।
अंतहीन अभीष्ट......

6 टिप्‍पणियां:

बेनामी ने कहा…

Niyamit aniyamitataon aur machini prakriti se bada sach aur kya hai? Antheen abhisht ka virodhabhas, likhte likhte shabdon ka antheen abhisht tak pahunchna...kavita ki badayi nahi karvata, uljhaata hai, ek uljhan jo badhti jatee hai bas.
Darajon se nikal-nikal kar kagaji farsh par sapane sajaate, vyavasthit avayavastha keval uljhaati hai.......
Apke betarteeb SAJEY shabd bhee is kavita ke kahe jaise hee khuubsuurat hai.
Ap ki ab tak padhi kavitaon me aap, kavita badhaate badhaate rahasyamay bante jaate hain aur ek mahhattam bindu aata hai, fir ant aate aate aise ki bhatak gaya khud rahasyamay banneaur banaane vaala. Par is baar kavita antheen abhisht tak gayi, ek suljhaa sa, kathit akathneey rahashya, ant tak bana hua hai...badhayi, sunder rachna.

गिरिराज जोशी "कविराज" ने कहा…

थकने की सोचना भी
वफ़ाई की दीवार है।


:)

Swarna Jyothi ने कहा…

daraazo se nikaal kar khvaab
kaagazee farsh par sajaanaa

achchi kalpanaa hai
is kalapanaa kaa saty me saakaar honaa hee kavitaa kahalaatee hai

shbdon kaa achchaa jaal hai
rachanaa achchi hai

ग़रिमा ने कहा…

हर बार एक ही
आयोजन व प्रयोजन।
थकने की सोचना भी
वफ़ाई की दीवार है।

थके ही क्युँ और कैसे जब अंत ही नही :)
सुन्दर रचना

anju ने कहा…

bahut khub likha hai aapne shailesh ji
antheen aur abeesht shabadon ne kavita mein jaan si la di hai
likhte rahiye

बेनामी ने कहा…

Amiable fill someone in on and this enter helped me alot in my college assignement. Thank you on your information.