मंगलवार, 26 सितंबर 2006

प्रेम-पुष्प-२

प्रिये,
कभी देखा है तुमने
सूखते हुये घास
और मुरझाते हुये प्रभात को
कितने बेवस नज़र आते हैं वे
समझ लो वही हो गया हूँ आजकल
कहते हैं न- दीये में तेल डालते ही
उसके जलने की तमन्ना और बढ़ जाती है
मेरी भी आरज़ूयें बढ़ने लगी हैं
नहीं सोच पाता क्या होगा अंजाम
कब गिरेंगी दीवारें
कब बनेगा संगमरमरी ताजमहल
कब जायेगी सड़क दिल के इस छोर से
उस छोर तक
मैं तो चल पड़ा हूँ
इस राह में तुम्हारे सहारे
बहुत से चौराहों को लाँघ भी लिया है
न जाने इतना साहस कहाँ से आ गया है
लोग ठीक कहते थे
किसी का साथ हो तो
-------
सागर की सीमा
आकाश की ऊँचाई
और पाताल की गहराई
भी नापी जा सकती है
लड़खड़ाने लगे हैं कदम मेरे
पर इस डगमगाहट में भी मज़ा है
प्रयास करता हूँ न देखूँ स्वप्न
न जाऊँ समय से आगे
पकड़ा रहूँ हाथ वास्तविकता का
पर रहता है कहाँ होश
कहाँ दबते हैं ज़ज्बात
अब तो शाम-ओ-सहर
यादों की दरिया में गोता लगा रहा हूँ
कभी डूबता भी हूँ
और कभी उतरता भी हूँ
शायद तुम तिनकों की मानिन्द
बहती रहती हो, बहती रहती हो
ताकि जब मैं डूबने लगूँ
तो तुम मुझे उबार सको।


लेखन-तिथि- २६ नवम्बर २००४ तद्‌नुसार विक्रम संवत् २०६१ कार्तिक मास की पूर्णिमा।

4 टिप्‍पणियां:

Medha Purandare ने कहा…

kavita aachhi hai,par kalpana thodisi nirashayukt hai. I liked following lines more-

पर इस डगमगाहट में भी मज़ा है
प्रयास करता हूँ न देखूँ स्वप्न
न जाऊँ समय से आगे
पकड़ा रहूँ हाथ वास्तविकता का

sursh goyal ने कहा…

shalesh bharatvasi ji
namaskar
apki kavitae padhi dil ki gharaiome utar gai vastev me bhaut achi kavtae ha likte rahiaga

anupama chauhan ने कहा…

कब बनेगा संगमरमरी ताजमहल
कब जायेगी सड़क दिल के इस छोर से
उस छोर तक

बहुत से चौराहों को लाँघ भी लिया है
न जाने इतना साहस कहाँ से आ गया है

लड़खड़ाने लगे हैं कदम मेरे
पर इस डगमगाहट में भी मज़ा है
प्रयास करता हूँ न देखूँ स्वप्न
न जाऊँ समय से आगे

शायद तुम तिनकों की मानिन्द
बहती रहती हो, बहती रहती हो
ताकि जब मैं डूबने लगूँ
तो तुम मुझे उबार सको।


aachi prastuti.....asadhaaran kavitaa.....

kashyap kishor mishra ने कहा…

pyar ko anubhut karna samay ki simao se pare ho jana hota hai.
kabhi samay se aage to kabhi bite samay ko sath le ke
ek bat batau!
pyar dukelepan ko akelapan bana dene ki anubhuti hoti hai
aur dukelapan, wakai dukele me nahi balik dukelepan ki charam anubhuti ke liye akelapan zaruri hai