मंगलवार, 14 नवंबर 2006

प्रेम-पुष्प-६

प्रिये,
तुम्हारी ज़ानिब से उठी संवेदनाएँ
शायद नहीं पहुँच पाईं हैं मुझ तक।
शायद मिल गया है कोई
रास्ते का साथी।
घूमा रहा होगा किन्हीं
ठण्डी जगह पर।
लिपटा रहा होगा अपनी
गर्म-लिबासों के ज़ाल में।
कहीं पिघल न जाये तुम्हारे
अरमानों का बिस्तर।
नहीं तो पहुँच न पायेगा
वो मुझ तक।
क्योंकि रास्तों में बर्फीली चट्टाने हैं
जिन्होंने ज़ज़्ब किये हैं
तमाम आशिकों के ख़्वाब।
जब गर्मियों में आते हैं सैलानी
उनकी जिस्मानी गर्मी से पिघलते हैं
ये स्वप्न
और बढ़ा देते हैं
पानी गंगा का।
उस समय दौड़ने लगता है
मेरा पूरा वज़ूद
दरिया की तरफ।
समेट लेता है सारे स्वप्न
और सहेज कर रख लेता है
आँखों में।
जैसे कल की ही बात हो---
संवेदनाएँ चल पड़ी हैं
शायद फिर से॰॰॰॰॰


लेखन-तिथि- १ फरवरी २००५ तद्‌नुसार विक्रम संवत् २०६१ माघ मास के कृष्ण पक्ष की सप्तमी।

2 टिप्‍पणियां:

Medha Purandare ने कहा…

kuch gudh-ramya lagati hain panktiyan.
Overall nice Pushp !!

govind pandey ने कहा…

bharatwasi ji namaskar
aap jante hai ki mai aapki kavita ka fan raha hun , bich mai mai aapki kavitao ko para nahoi pata tha lekin aaj bahut aannand aaya aap ki kavitaye lajbab hai, sarikavitao mai comment nahi likh pa raha hun is bat ka mujhe afsos hai magar ye mujhe bahut hi acchi lagi , iska matlab ye kattai nahi ki baki acchi nahi lagi magar ye kafi payari lagi