रविवार, 30 अप्रैल 2006

नर्क का सबूत

ढाई मीटर का था वो
कम से कम
जिंदा कहे जाने की हलचल
खो चुका था
घिरा था लाखों के बीच
अस्तित्व मिटा रहे थे
वे उसका
क्या दोष था उसका
यही कि?
चला जा रहा था चुपचाप!
पर जीने का यह कायदा नहीं है
आ गयें थे
भालें, बरछें, पत्थर और बन्दूक
लोगों की हाथों में
बरस पड़ा था उसपर
सबकुछ
उसके बाद कीड़ों का साम्राज्य
सेंध लगा गया था
कहते हैं कि
पाप की सज़ा
कीड़े पड़ना जैसा है
एक दिन और गुजरा
-कंकाल छोड़ गया था
नर्क का जीता-जागता सबूत!

(अपने गाँव में एक साँप की हत्या के उपरान्त)

लेखन-तिथिः दिनांक ३ अगस्त २००४ तद्‌नुसार विक्रम संवत् २०६१ श्रावण (द्वि॰) कृष्ण पक्ष की तृतीया

9 टिप्‍पणियां:

L. N. Agrahari ने कहा…

This one is really better than the last one. Go ahed and write somethin more beautyful.

Manish ने कहा…

Sarp jati mein utpanna hona is kaliyug ka sabse bada abhishaap hai. achchi rachna hai likhte rahein.

Atal ने कहा…

Nice try Sailesh, But to be very frank, dont just write because you want to write. Write some thing deep and meaning full. There was no mean of going to second poem of yours after reading first. Sorry but it was my opinion.

Dharmesh Pathak ने कहा…

rachana to mast hai. lekin meri samajh mein ye nahi aata ki ise gadya kahoon ya padya. mera matlab yeh hai ki kavita mein tukbandi hona chahiye.

Divya Prakash ने कहा…

yar ye bas kavita likhne ke liye likhi gayi hai ..apne dekha aur paros diya ...lekin acchi bat hai ki apne likha varna bahut laogo per to aalaas ka sarp madrata hai ...

Divya Prakash ने कहा…

yar ye bas kavita likhne ke liye likhi gayi hai ..apne dekha aur paros diya ...lekin acchi bat hai ki apne likha varna bahut laogo per to aalaas ka sarp madrata hai ...

बेनामी ने कहा…

I read about you in the BBC article on banning blogging in India. I really liked your poem, even though my Hindi is not very good. Please keep up your poetry and the fight for freedom of expression in India.

mahashakti ने कहा…

हमसे अच्‍छा तो सांप है जब तक छेडो न तब तक कटता भी नही है। मनुष्‍य सबसे बुद्धिमान प्राणी हो कर ही सबसे भ्रष्‍ट है। जानवर तो भूख के लिये दूसरे को मारते है और हम ???

बेनामी ने कहा…

bahut badhiya likhte ho tum,shailesh.tumhari kavitayen padh k lagta hai ki kuchh achchha padha hai,aur kya kahu......great!